Wednesday, November 26, 2008

कहानी - थोड़ी पुरानी

बारहवीं-तेरहवीं सदी में ईरान में एक मशहूर सूफी संत हुए थे - मुहम्मद फरीदुद्दीन अत्तार। उन्होंने अपनी किताब मन्निकुत्तैर में साधक के मार्ग की कठिनाइयों और चरम लक्ष्य तक पहुंचने का वर्णन बडे़ ही रोचक ढंग से किया है। इसके लिए उन्होंने एक दिलचस्प रूपक का सहारा लिया। किताब की शुरुआत संसार भर के पक्षियों की कॉन्फ्रंस बुलाने और उसमें हुदहुद के नेता चुने जाने के वर्णन से होती है। हुदहुद को आध्यात्मिक जगत के रहस्यों का पता है। वह पक्षियों को बतलाता है कि उसका भी एक राजा है जिसका नाम सीमुर्ग है। लेकिन हुदहुद अकेले उसके पास तक जाने का साहस नहीं कर पाता। यदि कॉन्फ्रंस में उपस्थित सभी पक्षी साथ चलने को तैयार हों तो वह उन्हें ले कर जा सकता है। इसके बाद हुदहुद ने बहुत सी कहानियां कही हैं।
उन कहानियों को सुन कर बाकी चिड़ियों के हृदय में भी उस प्रियतम (सीमुर्ग) से मिलने की तीव्र आकांक्षा उत्पन्न होती है और वे हुदहुद के नेतृत्व में अपनी यात्रा पर अग्रसर होती हैं। हुदहुद रास्ते में साथी पक्षियों की जिज्ञासाओं का जवाब देता है। एक पक्षी के पूछने पर बतलाता है कि सीमुर्ग तक पहुंचने के लिए किस तरह घने जंगलों से भरी हुई सात घाटियां हैं। उन सात घाटियों के भी नाम हुदहुद ने बतलाए- पहली घाटी खोज की है, दूसरी प्रेम की, तीसरी ज्ञान की, चौथी नि:संगता की, पांचवीं एकत्व की, छठी भावाविष्ठावस्था (आनंद) की और सातवीं फना (मृत्यु) की। अत्तार ने फारसी में लगभग सवा लाख पद लिखे हैं। इनके कहने का ढंग अत्यंत ही सरल था, लेकिन कहीं-कहीं उनमें विरोधाभासी शैली अपनाने की प्रवृत्ति भी दीखती है। जैसे अत्तार अपनी मसनवी में लिखते हैं, ऐ मनुष्य, यह संसार तुम से ही परिपूर्ण है, लेकिन तुम संसार में नहीं हो। तुम्हारा मौन तुम्हारी वाणी से है।
अत्तार भावाविष्ठावस्था में कहते हैं, आखिरकार बेहद जद्दोजहद (प्रयत्नों) के बाद मैंने विजय पा ली है, मेरा अहंकार मेरी आंखों से आंसू बन कर बह गया है, मुझ खोजी को अब आनंद ही आनंद है। मेरे दिल का चिराग रोशन हो गया है, हर चेहरे में मुझे अब उसकी (ईश्वर) छवि दिखाई पड़ती है। मैं अपने ही भीतर प्रेम से जल रहा हूं, मुझे प्रेम में ही दफना दो। मैं एक ही साथ मोती भी हूं और उसका विक्रेता भी। अत्तार इत्रफरोश थे। एक दिन वे अपनी दुकान पर बैठे थे कि एक सूफी दरवेश आया।
अत्तार को लगा जैसे उसने भिक्षा पाने के लिए दरवेश का स्वांग बना रखा है, इसलिए उसे आगे बढ़ने के लिए कह दिया। तब दरवेश ने अपने फटे वस्त्रों को दिखलाते हुए कहा, संसार में केवल वही उसकी संपत्ति है। उसके लिए वहां से जाना अथवा इस संसार से कूच कर जाना बिल्कुल मुश्किल नहीं है। लेकिन वह अत्तार के लिए दुखी है कि वह अपनी इतनी संपत्ति को कैसे छोड़कर जाएगा।
अत्तार की जैसे आंख खुल गई, उसने उसी समय अपनी सारी धन- संपत्ति त्याग कर सूफी हो गए। अत्तार की मृत्यु की कहानी भी बड़ी विचित्र है। चंगेज खां ने फारस पर चढ़ाई की। अत्तार एक सैनिक के हाथ पड़ गए। वह उन्हें मारने ही जा रहा था कि एक अन्य सैनिक को उन पर दया आ गई। उसने काफी दव्य देकर अत्तार को खरीदना चाहा। लेकिन अत्तार ने अपने मालिक सिपाही को उतना मूल्य लेने से मना कर दिया और कहा कि उसे और अधिक कीमत मिल सकती है। इसके कुछ समय बाद एक दूसरे सैनिक ने उन्हें खरीदना चाहा। उसने देखा कि अत्तार बूढ़ा है, अतएव उनका मूल्य एक थैली घास से अधिक नहीं होगा। अत्तार ने उस सैनिक से जिसने उन्हें पकड़ रखा था, कहा कि वह उसे बेच दे क्योंकि वही उनकी पूरी कीमत है। इस बात से वह मालिक सैनिक इतना नाराज हुआ कि उसने ही अत्तार को मार डाला।

Thursday, November 13, 2008

'दक़ियानूसी राज'


शहर में राज का चर्चा दिखाई देता है
हर एक शक्स तड़पता दिखाई देता है
ज़माना चांद पे जाने की कर रहा है फ़िराक़
इसे तो सिर्फ़ मराठा दिखाई देता है
किसी को भी यहां ‘भईया’ से कोई बैर नहीं
इसी की आंख में कांटा दिखाई देता है
ज़माना जान चुका है परख चुका है इसे
ये शक्स खून का प्यासा दिखाई देता है
जहां में जब भी दरिंदों दी बात होती है
ये सैकड़ों में अकेला दिखाई देता है
लिबास इसका भले ही सफ़ेद हो लेकिन
ये शक्स सोच का काला दिखाई देता है
ये मुंबई की फ़िज़ाओं में ख़ौफ़ भर भर कर
बुराइयों का ओसामा दिखाई देता है
ये राजनीति का चक्कर है जान लो ‘भईया’
ये दकियानूस का चाचा दिखाई देता है
ये राज कौन है क्यों इसकी बात करते हो
ये ‘राज’नीति का प्यासा दिखाई देता है
भरेगा कब भला इसकी शरारतों का घड़ा
के इसका वक्त तो पूरा दिखाई देता है

---मसरूर अब्बास

Wednesday, November 5, 2008

"कोशिश तुम्हें जानने की"

(मीनाक्षी कंडवाल पेशे से टीवी जर्नलिस्ट है, लेकिन मन उनका एक कवि का है..उनकी एक कविता आप तक हम ला रहे हैं...जो अभी अधूरी है....मीनाक्षी चाहती थीं कि कविता जब पूरी हो तब सामने लाई जाए...लेकिन जिन महीन धागों से उन्होंने अपने ख्वाब बुने हैं...वो आपको देखनी ही चाहिए....इसी सोच के साथ हम ये लाइनें आप तक पहुंचा रहे हैं।)





एक कोशिश में जुटी हूँ आजकल
कोशिश तुम्हें जानने की,
समझने की,
और कभी कभी तो
परखने की भी......

वजह महज़ ये कि
तुम में है गज़ब का आकर्षण
जो तुमसे जुदा होने नहीं देता
जो तुमसे अलग कुछ सोचने नहीं देता


तुम मेरे प्रेमी नहीं हो
लेकिन प्रेमी से कम भी नहीं
लफ़्ज़ों की ज़ुबां में तुम 'ज़िंदगी' कहलाते हो
वक्त बेवक्त ज़ेहन में दस्तक दे जाते हो
बस इसीलिए
एक कोशिश में जुटी हूँ आजकल
हाँ कोशिश तुम्हें जानने की
'ज़िदंगी' को जानने की,
क्योंकि
साँसों के चलने से लेकर
सांसो के थमने तक
तुम्हारा विराट वैभवशाली अस्तित्व
अनंत अनुभवों की दास्तां कहता हैं

---मीनाक्षी कंडवाल