Friday, December 26, 2008

माया की 'माया'

यूपी के एक विधायक शेखर तिवारी आजकल जेल में हैं। जेल में क्यों-पुलिस कस्टडी में क्यों नहीं-ये एक सवाल है जो हर जुबान पर है। तिवारी जी उस पार्टी के नुमाइंदे हैं जिसने सूबे में कुर्सी पाने के लिए दो बरस पहले ब्राह्मणों से समझौता किया। उन्हीं ब्राह्मणों से जिनके खिलाफ कांशीराम ने कभी दलितों को एकजुट किया था।
बदलते वक्त में यूपी में एक नई ताकत बनने के लिए मायावती ने जो कार्ड खेला , वो चल गया और पार्टी सत्ता में अपने दम पर आई। बहन जी के जन्मदिन पर चंदा यूपी में कोई नई बात नहीं...महकमा छोटा हो या बड़ा , अफसरों को हर साल ताकीद की जाती है कि हर अफसर एक तय राशि बहन जी को पार्टी फंड में देगा। अब ये पैसा आधिकारिक तौर पर तो दिया नहीं जाता ...इसलिए इसका कोई रिकॉर्ड भी नहीं रहता। अफसर कमाते हैं और ये सोचकर कि अच्छी पोस्टिंग हाथ से न जाए , हर साल बहन जी को गिफ्ट में हरे हरे नोट देते भी हैं। लेकिन कभी कभी ,कोई अफसर फंस भी जाता है। जैसे औरैया के इस एग्ज़ीक्यूटिव इंजीनियर के साथ हुआ। उनकी मौत के बाद सकपकाई सरकार सिर्फ इतना कर पाई कि उसने विधायक को पुलिस कस्टडी में जाने से बचा लिया। तो शेखर तिवारी अब जेल में हैं-यानी आराम फरमा रहे हैं। उनसे कोई पूछताछ नहीं होगी और जेल में उनकी देखरेख भी बेहतर होगी। सीबीआई जांच के लिए मायावती साफ मना कर चुकी हैं क्योंकि वो जांच फिर केंद्र के पास चली जाएगी।
ये वही मायावती हैं जिनकी पार्टी का एक कार्यकर्ता मुलायम सरकार के दौरान इलाहाबाद में चुनावी राजनीति में गोली का शिकार हो गया था और तब सीबीआई जांच के लिए बहन जी ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था। तो....क्या इंजीनियर मनोज गुप्ता के खून का रंग राजू पाल के खून से कम गाढ़ा था ? इस सवाल का जवाब मिले,न मिले-इस घटना ने एक नये ट्रेंड की शुरुआत की है। शायद पूर्ण बहुमत के साथ आई सरकार से यही सबसे बड़ा नुकसान होता है कि सरकार जो चाहे करती जाए...कोई सवाल न हो।

Saturday, December 13, 2008

श्वान हैं तो क्या !

गली का कुत्ता लालू गुस्से में था। गुस्सा इतना कि सड़क के कोने में बैठ लगभग कांप रहा था..पता ही नहीं चला कि पास से कब दुम हिलाती लाली निकल गई...लाली इसी गली की कुतिया है..और लालू से बनती है उसकी। लालू को इंतज़ार था कि गली के दूसरे कुत्ते कब आएंगे....उसने मीटिंग बुला रखी थी-कौम के लिए। धीरे धीरे सारे आवारा कुत्तों का हुजूम इकट्ठा होने लगा। बैठक दो मकानों के बीच बरसों से खाली पड़े एक प्लॉट में बुलाई गई थी। भीड़ इकट्ठी देख लालू अपनी जगह से उठा...एक उंची जगह जाकर खड़ा हुआ और बोलने से पहले गला साफ किया।

' दोस्तों ... '
लालू ने बोलना शुरू किया....
'वक्त बहुत मुश्किल है...अब चुप नहीं रहना...हमारी इज्जत खतरे में है...अब तक तो ठीक था...अपने बीरू भइया हिंदी फिल्मों में बोलते थे...कमीने कुत्ते...हम चुप रह जाते थे...लेकिन अब पानी सर से ऊपर जा रहा है...अब नेता भी हम पर तंज कसने लगे हैं....केरल का मुख्यमंत्री बोलता है मेजर संदीप शहीद नहीं हुआ होता तो कुत्ता भी उसके घर नहीं जाता...कोई मुझे बताए...क्या हमारी ही उपमाएं रह गईं हैं ? आखिर हम एक वफादार कौम हैं....ये और बात है कि हम आवारा हो गए...लेकिन हमारी बहुत सी जातियां बड़े बड़े घरों की रखवाली किया करती हैं.....हम न हों तो रात को सड़क पर लोग दारू पीकर दंगे करते फिरें ... ये तो हम हैं कि रात को सड़कों की बेबात रखवाली करते हैं....सड़कों पर लाठी पटक कर चला जाने वाला पहरेदार हमारे ही भरोसे तो चैन से रात भर सोता है....तो हम क्यों इंसानों का जुल्म बर्दाश्त करें....
सारे कुत्तों ने एक बार भौंक कर समर्थन जाहिर किया।

(आगे और है...अधूरा)

Thursday, December 4, 2008

संभल जाओ रहनुमाओ

वो ताज प्रेम की इमारत तो नहीं था-लेकिन वहां मोहब्बत करने वाले आते थे। लेकिन गोलियों से जब उसकी दीवारें छलनी कर दी गईं...तो शहर फट पड़ा। गेटवे ऑफ इंडिया पर उमड़ी वो भीड़ शायद इतिहास में अपना नाम लिख गई हो....बता गई हो कि सब्र का बांध जब टूट जाता है तो एक आम शरीफ शहरी के गुस्से की शक्ल कैसी होती है। मोमबत्तियां जलाकर, भड़काऊ पोस्टर लेकर और अपने रहनुमाओं को गाली देकर उस रात वो भीड़ लौट गई जिसने उस शहर का दुख अपने कलेजे में बड़ी शिद्दत से महसूस किया था। ये एका इतना चौंकाने वाला था कि उस शहर के आका को कुर्सी छोड़ते वक्त कहना पडा कि - लोगों का गुस्सा बहुत था, इसलिए इस्तीफा दे रहा हूं।
इतिहास में ऐसी कई भीड़ों का ज़िक्र हुआ होगा और उन्होंने कई बदलाव किये होंगे। एक की तो याद आप सबको होगी-जब फ्रांस की एक रानी ने महल से झांक कर बाहर देखा और कारिंदों से पूछा कि ये भीड़ क्यों महल के बाहर खड़ी है, कारिंदों ने बताया कि ये लोग कहते हैं कि ये भूखे हैं...इन्हें रोटी चाहिए....रानी ने पूछा--भूखे हैं तो केक क्यों नहीं खाते। इतिहास के पन्नों में दर्ज उस भीड़ ने कुछ दिनों बाद फ्रांस का तख्ता पलट दिया। ताज के सामने इकट्ठा वो भीड़ भी एक चेतावनी थी...हुक्मरानों को...कर लो जितना घालमेल कर सकते हो। एक दिन आएगा जब जवाब देना होगा..कोई कोर्ट कचहरी नहीं...यहीं सबके सामने देना होगा जवाब।
नींद से जागी भीड़ तब पूछेगी कि ये कौन सा कानून है कि ओलिंपिक में गोल्ड मेडल जीतने पर एक शूटर को ये देश 3 करोड़ रूपये और 40 लाख की कार न्योछावर कर देता है...और ताज बचाने वाले कमांडोज़ मारे जाते हैं तो उनके परिवार को 5 लाख रुपये देकर अपनी ड्यूटी पूरी कर ली जाती है। यही नहीं .... मरने वाले एक कमांडो के परिवार से एक मुख्यमंत्री बदजुबानी भी करता है, माफी मांगने से इनकार भी करता है , फिर माफी मांग भी लेता है। इस नैतिकता पर भीड़ सवाल नहीं पूछेगी...सीधे फैसला करेगी।
सवाल पूछे जाएंगे उन लोगों से भी जिन्होंने कहा था कि लिपिस्टिक-पाउडर लगाकर गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन करने वाली महिलाओं की जांच होनी चाहिए। लोग पूछेंगे कि तुमने ये सवाल तब क्यों नहीं किया जब यहीं औरतें लिपिस्टिक-पाउडर लगाकर तुम्हें वोट देने सड़कों पर उतरीं थीं...और तुम्हें कुर्सी पर बिठाया भी। शायद इसीलिए लगातार अपनी ग़लतियों से सबक न लेने वाले देश को सोचना होगा कि वो नौबत न ही आए तो बेहतर कि भीड़ को फैसला करना पड़े।

Monday, December 1, 2008

पाकिस्तान को एक हिन्दुस्तानी शायर की हिदायत

पाकिस्तान के लोगों में पाकिस्तान की हकूमत और पाकिस्तानी मीडिया के ज़रिए ये बात फैलाई जाती है कि हिन्दुस्तान में जो मुसलमान हैं उन्हें बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है...उनपर ग़मों के पहाड़ ढाए जाते हैं...इस बात को मद्देनज़र रखते हुए एक हिन्दुस्तानी शायर ने पाकिस्तान की मीडिया, पाकिस्तान की हुकूमत और पाकिस्तान की आवाम को मुखातिब करते हुए ये नज़्म कही... जो आपकी पेश-ए-खिदमत है !


तुमने कश्मीर के जलते हुए घर देखे हैं
नैज़ा-ए-हिंद पे लटके हुए सर देखे हैं
अपने घर का तु्म्हें माहौल दिखाई न दिया
अपने कूचों का तुम्हें शोर सुनाई न दिया
अपनी बस्ती की तबाही नहीं देखी तुमने
उन फिज़ाओं की सियाही नहीं देखी तुमने
मस्जिदों में भी जहां क़त्ल किए जाते हैं
भाइयों के भी जहां खून पिए जाते हैं
लूट लेता है जहां भाई बहन की इस्मत
और पामाल जहां होती है मां की अज़मत
एक मुद्दत से मुहाजिर का लहू बहता है
अब भी सड़कों पे मुसाफिर का लहू बहता है
कौन कहता है मुसलमानों के ग़मख़्वार हो तुम
दुश्मन-ए-अम्न हो इस्लाम के ग़द्दार दो तुम
तुमको कश्मीर के मज़लूमों से हमदर्दी नहीं
किसी बेवा किसी मासूम से हमदर्दी नहीं
तुममें हमदर्दी का जज़्बा जो ज़रा भी होता
तो करांची में कोई जिस्म न ज़ख्मी होता
लाश के ढ़ेर पे बुनियाद-ए-हुकूमत न रखो
अब भी वक्त है नापाक इरादों से बचो
मशवरा ये है के पहले वहीं इमदाद करो
और करांची के गली कूचों को आबाद करो
जब वहां प्यार के सूरज का उजाला हो जाए
और हर शख्स तुम्हें चाहने वाला हो जाए
फिर तुम्हें हक़ है किसी पर भी इनायत करना
फिर तुम्हें हक़ है किसी से भी मुहब्बत करना
अपनी धरती पे अगर ज़ुल्मों सितम कम न किया
तुमने घरती पे जो हम सबको पुर्नम न किया
चैन से तुम तो कभी भी नहीं सो पाओगे
अपनी भड़काई हुई आग में जल जाओगे
वक्त एक रोज़ तुम्हारा भी सुकूं लूटेगा
सर पे तुम लोगों के भी क़हर-ए-खुदा टूटेगा..


जय हिन्द

मसरूर अहमद
(मसरूर कलम के धनी हैं...ग़लत बात न सुनते हैं , न कहते हैं...शायद इसीलिए अल्लाताला ने उन्हें ये नेमत बख़्शी है...कहा है कि -जाओ धरती पर ...समंदर की सियाही लो...और धरती को काग़ज़ मानो--और लिखते जाओ...सो शरूआत की है उन्होंने। अल्ला उन्हें लंबी उम्र और उंगलियों में ताकत दे)