Monday, November 14, 2016

हंसना ज़रूर

सुनो
तुम अपनी हंसी
की पीली छटा
हर सुबह बिखेर दिया करो
मेरे पतझड़ वाले 
आंगन में
ऐसे कट जाएगी
मेरी हर दुपहरिया
मैं वो हर दुपहर
सहेज कर रखूंगा


--रा.त्रि

No comments: