Monday, November 14, 2016

कसौटी

धूल धूसरित था मैं
कड़ी मेहनत से निकाला गया
आग में तपाया गया
कई कोनों से काटा गया
उकेरी गईं
मेरे सीने पे फिर नक्काशियां
और फिर...
तय हुआ मेरा दाम
और सज गया मैं दुकानों में
.......
.......
लेकिन अब भी परखा जाता हूं रोज़
हर ग्राहक हथेली पर रखता है
और परखता है-
खरा तो हूं ना मैं ?


--रा.त्रि

No comments: